• Lucknow स्थित एक मीडिया के कार्यालय में छिपा था हयात जफर 
  • कानपुर कमिश्नररेट पुलिस ने हयात के तीन साथियों भी किया Arrest
  • मॉस्टर माइंड का PFI से कनेक्शन खंगाल रही है UP Police
  • हयात जफर हाशमी के बैंक खातों की जांच कराएगी पुलिस : पुलिस आयुक्त

एक यू-ट्यूब चैनल के दफ्तर में साथियों के साथ छिपा बैठा था हयात जफर हाशमी

          

Yogesh Tripathi

 Kanpur में जुमा की नमाज के बाद बेकनगंज में हुई हिंसा के मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। हिंसा के पीछे के मॉस्टर माइंड कहे जा रहे हयात जफर हाशमी को कानपुर कमिश्नरेट पुलिस ने Lucknow स्थित एक मीडिया के दफ्तर में छापा मारकर Arrest कर लिया। हयात के साथ उसके 3 साथियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि हिंसा के बाद हयात अपने साथियों के साथ फरार हो गया था और Lucknow में पनाह लिए था। Crime Branch की टीम ने मुखिबर की सटीक सूचना पर हयात जफर को धर दबोचा। हयात जौहर फैंस एसोशिएशन का प्रेसीडेंट है। पुलिस के दावों के मुताबिक उसकी गतिविधियां शुरु से ही संदिग्ध रही हैं। पुलिस अब सभी बिन्दुओं पर छानबीन कर रही है। जल्द ही हयात के बैंक अकाउंट की डिटेल को भी खंगाला जाएगा। पुलिस और खुफिया एजेंसियों को शक है कि हयात के कनेक्शन PFI से भी हो सकते हैं।  

 

हयात जफर का नाम पहले भी कई मामलों में आ चुका है। दो साल पहले CAA & NRC प्रोटेस्ट के दौरान शहर में हुए उपद्रव भी उसका नाम प्रकाश में आया था। कल जुमा की नमाज के बाद भी जब हिंसा भड़की तो हयात जफर फरार हो गया था। बवाल के बाद पुलिस ने तुरंत उसके मोबाइल नंबरों के जरिए उसकी लोकेशन खंगालनी शुरु कर दी थी। साथ ही उसके कई करीबी लोगों की न सिर्फ निगाहबनी की गई बल्कि देर-सबेर उनको पुलिस ने टांग भी लिया। जानकारी मिलने के बाद पुलिस की टीम ने छापा मारकर लखनऊ में हयात को Arrest कर लिया। 

पुलिस लाइन में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीना ने हयात जफर हाशमी के गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि अभी तक की जांच में यह बात प्रकाश में आई है कि हयात जफर ने अपने साथियों के साथ मिलकर उपद्रव की साजिश रची थी। लखनऊ में गिरफ्तारी के दौरान सभी के पास से 6 मोबाइल और कुछ आपत्तिजनक दस्तावेज भी पुलिस ने बरामद किए हैं। हयात के साथियों के मोबाइल कॉल डिटेल को खंगाला जा रहा है ताकि उन्होंने किस-किस से बातचीत की या फिर हयात से उन लोगों के क्या कनेक्शन हैं, इसका पता चल सके। 

पुलिस आयुक्त ने कहा कि जल्द ही हयात के बैंक अकाउंट को भी खंगाला जाएगा। ताकि यह मालुम हो सके कि कहीं कानपुर में उपद्रव के लिए उसे कहीं फंडिग तो नहीं की गई। पुलिस आयुक्त ने बताया कि पिछले दिनों मणिपुर और पश्चिम बंगाल में भाजपा नेत्री नूपुर शर्मा के विवादित बयान के बाद पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) की ओर से बंद का आह्वान किया गया था, उसी तारीख को कानपुर में भी बंद के लिए आह्नवान  किया गया। इस आधार पर पुलिस जांच कर रही है कि हयात जफर हाशमी का कनेक्शन कहीं पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से तो नहीं है।




Next
This is the most recent post.
Previous
पुरानी पोस्ट
Axact

Axact

Vestibulum bibendum felis sit amet dolor auctor molestie. In dignissim eget nibh id dapibus. Fusce et suscipit orci. Aliquam sit amet urna lorem. Duis eu imperdiet nunc, non imperdiet libero.

Post A Comment:

0 comments: