TRENDING NOW

-जनता से शांति और शौहार्द बनाए रखने की अपील की

-क्षेत्राधिकारी और इंस्पेक्टर भी फोर्स के साथ रहे मौजूद


Raja Katiyar

Uttar Pradesh के Kannauj जनपद में पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा ने हाज़ी उर्स शरीफ़ के मद्देनजर फोर्स के साथ क्षेत्र में पैदल मार्च किया। क्षेत्राधिकारी और इंस्पेक्टर भी फोर्स के साथ पैदल मार्च में शामिल रहे। Kannauj के पुलिस अधीक्षक ने इस दौरान क्षेत्र के लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील भी की।

गौरतलब है कि जनपद का चार्ज लेने के बाद से ही एसपी प्रशांत वर्मा Law & Order को लेकर काफी सजग हैं। सभी त्योहारों पर वह खुद जनता के बीच मौजूद रहकर शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील करते हैं। इतना ही नहीं अपराधियों और अराजकत्तवों पर नकेल कसने के लिए समय-समय पर वह मातहतों को भी सख्त ताकीद देते हुए दिशा-निर्देश जारी करते हैं।

बुधवार को क्षेत्राधिकारी शिवप्रताप सिंह और इंस्पेक्टर विकास राय के साथ पैदल मार्च कर रहे पुलिस अधीक्षक ने लाखन तिराहा समेत कई जगहों का निरीक्षण भी किया। उन्होंने मातहतों से अभी तक की तैयारियों के बाबत जानकारी भी ली।

 

Central Desk

MSME प्रौद्योगिकी केंद्रीय पादुका प्रशिक्षण संस्थान (आगरा) के तत्वाधान में देवीगंज स्थित कॉलेज में आउट रीच प्रोग्राम का संचालित है। जिसमें क्षेत्र के SC/ST Students को प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को CFTI (Agra) और RV International की तरफ से सभी छात्रों को निशुल्क ट्रेनिंग किट और ड्रेस का वितरण किया गया। 


 

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि भारतीय प्रेस परिषद भारत सरकार के सदस्य श्याम सिंह परमार और प्राइमरी स्कूल के प्रधानाचार्य सुरेशचंद्र प्रमुख रूप से मौजूद रहे। श्याम सिंह परमार ने सभी छात्रों को लेदर के सैंपल मेकर कोर्स में ले रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम को गुणवत्तापूर्ण करने की सलाह दी। उन्होंने फैक्ट्रियों में रोजगार करने के लिए भी प्रोत्साहित किया। साथ ही उन्होंने सभी स्टूडेंट्स के उज्जवल भविष्य की कामना की।

कार्यक्रम का संचालन Vipin Singh की तरफ से किया गया। उन्होंने सभी स्टूडेंट्स को CFTI (Agra) के अन्य प्रशिक्षण कार्यक्रमों की पूर्ण जानकारी प्रदान की। इच्छुक छात्रों को नए प्रोग्राम में प्रशिक्षण के लिए आवेदन करने का मार्ग भी दिखाया। इस मौके पर प्रमुख रूप से विपिन सिंह,विजय मिश्रा, अक्षय कश्यप, विकास दिक्षित, स्वप्निल, जितेंद्र आदि लोग मौजूद रहे।

 

 


Central Desk

Government Of India की संस्था केंद्रीय पादुका प्रशिक्षण संस्थान (आगरा) एवं सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्धम मंत्रालय की तरफ से ORP योजना के अन्तर्गत अनुसूचित जाति एवं जनजाति के स्टूडेंट्स को प्रशिक्षण प्रदान कर स्वरोजगार देने के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।

जिसके तहत डलमऊ स्थित कॉलेज में CFTI & R.V International की तरफ से रजिस्ट्रेशन करते हुए सभी Student’s को ट्रेनिंग किट और ड्रेस का वितरण रायबरेली (डलमऊ) में क्षेत्राधिकारी (CO) अशोक कुमार सिंह और सब इंस्पेक्टर इंसाफ अली की तरफ से किया गया। अतिथियों का सेंटर इंचार्ज मुकेश कुमार ने माल्यार्पण कर स्वागत किया । 

इसके बाद प्रशासनिक अफसरों ने किट और ड्रेस का वितरण कर लेदर क्षेत्र में स्वरोजगार करने का सुझाव दिया। क्षेत्राधिकारी ने सभी छात्रों को अपने अंदर के हुनर को पहचान इसे समाज मे स्वरोजगार के रूप में विकसित करने के प्रति उत्साहित किया। सेंटर इंचार्ज मुकेश ने बताया यह प्रशिक्षण कार्यक्रम फुटवियर सैंपल मेकर के क्षेत्र में दिया जा रहा है। जिसकी अवधि 200 Hours हैं। 

यह CFTI की तरफ से पूर्णतः निशुल्क है। इस अवसर पर स्कूल के  प्रबंधक राधेपाल, प्रीतम पाल सिंह , प्रशिक्षक अरविंद कुमार, मनीष कुमार, अंकित कुमार, मनीष यादव , शैलेन्द्र, शिवानी, मुकेश कुमार, आदि लोग मौजूद रहे।

-मीटिंग में पुलिस अधीक्षक ने मातहतों को दी सख्त ताकीद

-गुंडों पर नकेल कसने के लिए गैंगस्टर और हिस्ट्रीशीट खोलें

Raja Katiyar

Uttar Pradesh में दो महीने बाद होने वाले पंचायत चुनाव के मद्देनजर Kannauj जनपद के पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा ने मातहतों के साथ एक अहम मीटिंग की। बैठक में उन्होंने दिशा-निर्देश जारी करते हुए मातहतों को सख्त ताकीद देते हुए कहा कि Law & Order नहीं बिगड़ना चाहिए। अपराधियों और गुंडों पर नकेल कसने के लिए गुंडा एक्ट, गैंगस्टर की कार्रवाई के साथ-साथ हिस्ट्रीशीट भी खोलें।

पंचायत चुनाव के मद्देनजर एसपी प्रशांत वर्मा ने थानेदारों से दो टूक शब्दों में कहा कि गांव-गांव गश्त कर जनता से सीधा संवाद स्थापित करें। लंबित विवेचनाओं को जल्द से जल्द गुणवत्तापरक निस्तारण भी करें। अपराध को नियंत्रित करने के लिए गुंडा एक्ट,गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करें। साथ ही शातिर अपराधियों की हिस्ट्रीशीट भी खोलें।

एसपी प्रशांत वर्मा ने सभी थानों पर जनसुनवाई के लिए एक "जनसुनवई अधिकारी" नियुक्त करने का निर्देश भी दिया। सभी थानेदारों को साफ-साफ निर्देशित किया गया कि वह अपराधियों के खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई करने के साथ रात्रि में गश्त बढ़ाएं। उन्होंने महिला संबंधी अपराध, थानेवार टॉप-10 अपराधियों और जेल से रिहा हुए अपराधियों का सत्यापन आदि की समीक्षा करने का भी निर्देश मीटिंग में मौजूद मातहतों को दिया। बैठक में अपर पुलिस अधीक्षक प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

 

 

 -कार्यक्रम में पूर्व ब्लाक प्रमुख नवाब सिंह यादव भी रहे मौजूद

-जिलाध्यक्ष कलीम खां ने संत गाडगे के चित्र पर किया माल्यार्पण


 

Raja Katiyar

Kannauj जनपद स्थित समाजवादी पार्टी के कार्यालय पर महान समाज सुधारक संत गाडगे की 145वीं जयंती बेहद धूम-धाम से मनाई गई। इस दौरान जिलाध्यक्ष कलीम खां ने संत गाडगे के चित्र पर माल्यार्पण कर उनकी जीवन पर खासा प्रकाश डालते हुए बताया कि संत गाडगे ने कहा था कि किसी की मदद करना मानव जीवन का सबसे बड़ा पुण्य का काम है।

पूर्व ब्लाक प्रमुख नवाब सिंह यादव ने कहा कि संत गाडगे का जन्म महारष्ट्र राज्य के अकोला के एक गांव में हुआ था। संत गाडगे का जीवन गरीबों, मजदूरों, विकलांगों की सेवा में ही बीता। संत गाडगे कहते थे कि मानव के लिए शिक्षा बेहद आवश्यक है, इसके लिए चाहे आपको अपने बर्तन तक भी बेचने पड़ें तो उसे भी बेच दो। संत गाडगे जातीय प्रथा, ऊंच-नीच के बड़े विरोधी थे

जिलाध्यक्ष कलीम खां ने कहा कि संत गाडगे ने कहा था कि किसी की मदद करना मानव जीवन का सबसे बड़ा पुण्य का काम है। इसलिए आप जब तक जिएं तब तक दूसरो के लिए जिएं। उन्होने कहा जब मैं मर जाऊं तो किसी तरह का मंदिर या स्मारक ना बनवा के धर्मशाला बनवाना। जिसमें लोगों के शरण मिल सके। इस मौके पर सत्तार कुरैशी, राम सेवक बाथम, मसूद अहमद भुट्टो, शोभित दुबे आदि लोग मौजूद रहे।

 

-महामंत्री Rakesh Tiwari और Police Officer’s की Meeting के बाद फैसला

-Monday को प्रापर्टी के विवाद में हुई थी हवाई फायरिंग

-मंगलवार को सुरक्षा के मद्देनजर की गई पुलिस की तैनाती

 

Yogesh Tripathi

Kanpur कचहरी में Monday की शाम को प्रापर्टी के विवाद में हवाई फायरिंग की घटना ने सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है। अधिवक्ताओं के बीच फायरिंग की वारदात से साख पर बट्टा भी लगा है। इस तरह की घटनाओं पर नकेल कसने के लिए Kanpur Bar Association ने कड़ा फैसला लेते हुए कचहरी में हथियार लेकर प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। बताया जा रहा है कि घटना के बाद Bar Association के महामंत्री Rakesh Tiwari ने Police Officer’s के साथ Meeting के बाद यह फैसला लिया। मंगलवार को कोर्ट परिसर में अतिरिक्त पुलिस कर्मी सुरक्षा के मद्देनजर तैनात रहे। वहीं, दूसरी तरफ घटना की चर्चा भी अधिवक्ताओं के चेंबर में खूब होती रही।

मंडे को कचहरी परिसर में हवाई फायरिंग की घटना के बाद Bar Association और Police Officer’s के बीच एक अहम बैठक हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि हथियार लेकर कचहरी परिसर में प्रवेश को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाए। मंगलवार को इसका असर भी साफ-साफ दिखाई दिया। कचहरी के प्रमुख गेट पर पुलिस कर्मी तैनात दिखे।

हथियार लाने पर पहले से लगा है प्रतिबंध

जानकारों की मानें तो कचहरी परिसर में हथियार लेकर प्रवेश करने पर पहले से ही प्रतिबंध लगा हुआ है। करीब डेढ़ दशक पहले जब वकीलों-पत्रकारों और पुलिस के बीच जब खूनी संघर्ष हुआ तो तत्कालीन जिला जज शैलेंद्र सक्सेना ने हथियार लेकर कचहरी में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगाया था। उसके बाद भी कई जिला जजों ने हथियार लेकर आने पर प्रतिबंध लगाया लेकिन कुछ दिन बाद सारे आदेशों की धज्जियां उड़ती दिखीं।

एक सीनियर अधिवक्ता ने www.redeyestimes.com (News Portal) से बातचीत में कहा कि पुलिस कर्मियों के लिए भी सख्त आदेश है कि कोर्ट में (गवाही, बयान, जिरह) से पहले वह सरकारी असलहों को जमा करके आएं लेकिन यह आदेश अमल में बिल्कुल नहीं लाया जाता है। अधिकांश अदालतों में दरोगा और इंस्पेक्टर सर्विस रिवाल्वर व पिस्टल लगाए कोर्ट में परिसर में देखे जाते हैं।

कई सीनियर अधिवक्ताओं का मानना है कि पिछले कुछ वर्षों में यह देखने को मिल रहा है कि अदालती कार्य से अधिक जमीनों की खरीद-फरोख्त के काम देखे जा रहे हैं। जबरन संपत्तियों पर कब्जे के मामले में प्रकाश में आ चुके हैं। कुछ मामलों में तो हत्याएं तक हो चुकी हैं। ऐसे में कचहरी परिसर में किसी तरह का खून-खराबा न हो, इस लिए यह Kanpur Bar Association का यह निर्णय स्वागत योग्य है, लेकिन इसे अमल में लाया जाए।

हवाई फायरिंग के बाद चेहरों पर दिखी दहशत

मंडे की शाम को कचहरी परिसर में Bar Association के सामने वाली गली में ताबड़तोड़ हवाई फायरिंग के बाद अधिकांश अधिवक्ताओं के चेहरों पर दहशत साफ-साफ दिखाई दी। यही वजह रही कि कुछ देर बाद ही बार हॉल के अंदर एक महापंचायतभी हई। जिसमें पुलिस की भी मौजूदगी रही। जानकारों की मानें तो कचहरी परिसर ऐसा पहली बार हुआ, लेकिन शहर में ऐसी तमाम घटनाएं हो चुकी हैं। कुछ घटनाओं में तो जान तक जा चुकी है। चार साल पहले परमट में हुई घटना अभी भी लोगों के जेहन में है।

जिला जज ने जारी किए हैं परिचय पत्र

Lockdown के बाद जब कोर्ट खुली तो जिला जज की तरफ से सुरक्षा के मद्देनजर अधिवक्ताओं को परिचय पत्र वितरित किए गए। इन परिचय पत्रों को लेकर भी अधिकांश मामलों में बिल्कुल भी पालन नहीं हो रहा है। तमाम अधिवक्ता परिचय पत्र के बगैर ही कोर्ट और दफ्तर में प्रवेश करते हैं। उनके साथ वादकारी भी आसानी से प्रवेश कर जाते हैं। यही हाल सुरक्षा के मद्देनजर लगाए गए मेटल डिटेक्टर का भी है। यहां पर बैठे सिपाही और दरोगा सिर्फ मूकदर्शक की मुद्रा में हमेशा नजर आते हैं।

 

  -फायरिंग में किसी के जख्मीं होने की खबर नहीं

-बार एसोशिएशन से चंद कदम की दूरी पर फायरिंग

-सूचना पर पहुंची कोतवाली थाने की फोर्स

-देर शाम तक चलती रही बार हाल में महापंचायत

-एक पक्ष ने दी कोतवाली थाने में तहरीर


 

Yogesh Tripathi

Kanpur के कचहरी परिसर में देर शाम हवाई फायरिंग से हड़कंप मच गया। घटना बार एसोशिएशन से चंद कदम की दूरी पर हुई। फायरिंग में किसी के जख्मीं होने की खबर नहीं है। सूचना पर कोतवाली थाने की फोर्स मौका-ए-वारदात पर पहुंची। देर शाम तक बार हाल में घटना को लेकर महापंचायत भी चली। महापंचायत के समय पुलिस की मौजूदगी रही। आरोप-प्रत्यारोप की बौंछार हुई लेकिन कोई ठोस नतीजा नहीं निकला। देर शाम एक पक्ष की तरफ से कोतवाली थाने में तहरीर दे दी गई। कोतवाली SHO ने www.redeyestimes.com (News Portal) से बातचीत में हवाई फायरिंग की पुष्टि करते हुए कहा कि एक पक्ष ने तहरीर दी है। पूरा प्रकरण दो अधिवक्ताओं के बीच का है। मामले की छानबीन की जा रही है।

हवाई फायरिंग की घटना शाम 5.30 बजे के बाद की है। उस वक्त अधिकांश अधिवक्ता कामकाज निपटाने के बाद अपने घरों को जा चुके थे। बताया जा रहा है कि बार हॉल के सामने वाली गली से अचानक चार राउंड फायरिंग हुई। जिसके बाद हड़कंप मच गया। गोली चलते ही कचहरी परिसर में मौजूद छिटपुट अधिवक्ताओं की भीड़ अचानक बाहर की तरफ भागी। चर्चा इस बात की भी हो रही है कि फायरिंग करने वाला शख्स का असलहा भी छीनने की कोशिश की गई।

थोड़ी ही देर में कोतवाली थाने की फोर्स पहुंची। छानबीन कर पुलिस ने काफी देर वहां मौजूद लोगों से पूछताछ की। घटना को लेकर सीनियर्स अधिवक्ता बार हॉल पहुंच गए। वहां पर पुलिस भी मौजूद रही। काफी देर तक बातचीत के जरिए डैमेज को कंट्रोल करने का जतन किया गया लेकिन नतीजा सिफर रहा। शाम होते-होते एक पक्ष की तरफ से कोतवाली थाने में तहरीर दे दी गई। माना जा रहा है कि देर रात तक दूसरे पक्ष की तरफ से भी तहरीर कोतवाली में दी जा सकती है।

प्रापर्टी से जुड़ा है मामला

घटना की पृष्ठभूमि में बताया जा रहा है कि मामला South City स्थित एक प्रापर्टी से जुड़ा है। जिसको लेकर दो दिनों से तनातनी के बाद चिंगारी सुलग रही है। शनिवार को भी इस मुद्दे पर बहस हो चुकी है। जिसका परिणाम ये रहा कि सोमवार को सरेशाम फायरिंग में हो गई। कचहरी परिसर में फायरिंग की सूचना के बाद स्थानीय खुफिया इकाई (LIU) ने भी तमाम जानकारियां जुटा रही है।

Twitter पर पुलिस ने दी जानकारी

सोशल मीडिया के प्लेटफार्म Twitter पर Active रहने वाली Kanpur Police ने Tweet कर घटनाक्रम के बाबत जानकारी देते हुए कहा कि दोनों गुट वकीलों के हैं। एक गुट की तरफ से फायरिंग की गई है। एक जमीन को लेकर विवाद होना बताया जा रहा है। अभियोग पंजीकृत कर जल्द विधिक कार्रवाई की जाएगी। 

-बाइक से पेशी पर जा रहा था गैंगस्टर नीलेश कुमार

-हत्या का मुकदमा दर्ज होने पर पुलिस ने लगाया था गैंगस्टर

-Court से वारंट होने पर हाजिर होने के लिए निकला था नीलेश

-कातिलों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें दे रहीं दबिश


Raja Katiyar

Uttar Pradesh की इत्रनगरी Kannauj में सोमवार सुबह बाइक सवार हमलावरों ने पेशी पर Court जा रहे गैंगस्टर नीलेश कुमार (28) के सीने में ताबड़तोड़ गोलियां दाग दीं। गैंगस्टर की मौके पर ही मौत हो गई। दुस्साहसिक वारदात की खबर मिलते ही पुलिस मौका-ए-वारदात पर पहुंची। पुलिस हत्या के पीछे फिलहाल पुरानी रंजिश के बिन्दु पर ही पड़ताल कर रही है। 


सदर कोतवाली के ग्राम तहसीपुर निवासी बालकराम का लड़का नीलेश कुमार (28) बाइक से Kannauj स्थित जिला कोर्ट में हाजिर होने के लिए घर से निकला था। परिजनों के मुताबिक गैंगस्टर एक्ट के मामले में उसका वारंट जारी हुआ था। बताया जा रहा है कि नीलेश कुमार के गंगपुर मोड़ पर पहुंचते ही सामने से बाइक सवार हमलावर भी आ गए। दोनों हमलावरों ने बीच सड़क पर बाइक खड़ी कर दी और नीलेश को निशाना बनाकर गोलियां दागीं। सीने में गोलियां लगते ही नीलेश नीचे गिर गया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। वारदात के बाद हमलावर फायरिंग करते हुए भाग निकले। सूचना मिलते ही SP प्रशांत वर्मा, CO (City) शिवप्रताप सिंह, SHO विकास राय और चौकी प्रभारी राहुल शर्मा मौका-ए-वारदात पर पहुंचे।


पुलिस के मुताबिक हमलावरों की पहचान के लिए हरसंभव कोशिश जारी है। छानबीन में पता चला है कि गांव  में रहने वाले मंजीत के भाई की अक्तूबर के महीने में हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में मंजीत के परिजनों ने नीलेश के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया था। कुछ दिन पहले ही नीलेश जमानत कराने के बाद जेल से बाहर आया था। पुलिस ने उस पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी।  

जिसमे कोर्ट से वारंट जारी किया गया था। कोर्ट में हाजिर होने के लिए नीलेश सुबह घर से निकला था। रास्ते में उसकी हत्या कर दी गई। माना जा रहा है कि हत्या का बदला लेने के उद्देश्य से नीलेश की हत्या कर दी गई है। परिजनों ने बीजेपी के एक कद्दावर नेता पर हत्यारोपितों कों संरक्षण देने का आरोप लगाया है। SHO विकास राय ने बताया कि पुलिस हमलावरों की तलाश में जुटी है। आसपास खेतों में काम करने वालों से पूछताछ की जा रही है। जल्द ही हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

तहसीपुर गांव में भारी पुलिस बल तैनात

गैंगस्टर की दिनदहाड़े फिल्मी स्टाइल में हत्या के बाद से दोनों पक्षों के बीच तनाव के मद्देनजर पुलिस प्रशासन अलर्ट है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए गांव में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। पुलिस की टीमें लगातार हत्यारोपितों की तलाश में दबिश दे रही हैं। बताया जा रहा है कि हत्या की खबर जैसे ही गांव पहुंची परिजनों के साथ दर्जनों ग्रामीण भी मौका-ए-वारदात पर पहुंच गए। नीलेश का खून से लथपथ शव देख परिजन काफी देर तक रोते-बिलखते रहे। पुलिस ने बगैर देरी किए शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा तो उसके बाद वहां से भीड़ हटी।

 

-G.T Road स्थित लालपुर क्रॉसिंग के पास भीषण Accident

-Accident में मरने वाले तीनों लोगों में दो मासूम बच्चे भी शामिल

-घायलों को इलाज के लिए सीएचसी में भर्ती कराया गया


 

Yogesh Tripathi

Kanpur के बिल्हौर थाना एरिया स्थित G.T Road पर लालपुर रेलवे क्रॉसिंग के समीप Monday को डीसीएम की ट्रैक्टर-ट्राली से भिड़ंत हो गई। टक्कर के बाद ट्रैक्टर-ट्राली पलट गई। भीषण Accident में तीन लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में दो मासूम बच्चे भी शामिल हैं। करीब डेढ़ दर्जन लोग घायल हो गए। घायलों को सीएचसी में भर्ती कराया गया। जहां से कुछ लोगों को उनके करीबी प्राइवेट अस्पताल इलाज कराने ले गए।

मुंडन कराने जा रहे थे ट्रैक्टर-ट्राली सवार

हरनू गांव निवासी लालू नागर अपने चार साल के बेटे शौर्य का मुंडन संस्कार कराने के लिए परिजनों और रिश्तेदारों के साथ मकनपुर जा रहे थे। लालपुर रेलवे क्रॉसिंग के पास पीछे से आ रही तेज रफ्तार डीसीएम ने ट्रैक्टर में टक्कर मार दी। टक्कर के बाद ट्रैक्टर-ट्राली पलट गई। ट्रैक्टर-ट्राली के पलटते ही उसमें सवार महिलाएं और बच्चे दब गए। Accident के बाद चीख-पुकार मची तो राहगीर और स्थानीय लोग दौड़कर मौके पर पहुंचे। 

ट्रैक्टर-ट्राली के नीचे दबे लोगों को किसी तरह बाहर निकाल पास के अस्पताल में पहुंचाया। सूचना पर बिल्हौर थाने की फोर्स मौके पर पहुंची। Police के मुताबिक Accident में जरैलापुरवा गांवनिवासी दिनेश नागर का बेटा राज (4), राजाराम का बेटा अंशु (7) और हरवू गांव निवासी मुकेश की बेटी श्रद्धा (18) की मौके पर ही मौत हो गई। दुर्घटना के बाद जीटी रोड पर जाम लग गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्राली को किसी तरह हटवाया, तब कहीं जाम से निजात मिली।

Accident में ये लोग हुए घायल

Police के मुताबिक दुर्घटना में हरनू गांव निवासी दीपक कुमार, आशीष कुमार, नैंसी, शिवम, छावनी पुत्री स्वर्गीय रामचंद्र ,रानी, काजल,सोमवती, सीमा, सपना, माया, महेश कुमार ,मुस्कान, अतुल कुमार, पार्वती, राज, भगवती और करिश्मा गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

 

-10 थानों की फोर्स मौके पर मौजूद रहा

-गैंगस्टर एक्ट के तहत जेल में बंद है बच्चा

-श्रम विभाग के सरकारी क्वार्टर पर कर रखा था कब्जा

-गली संकरी होने की वजह से नहीं पहुंची JCB

-दो दर्जन से अधिक मजदूर चला रहे हैं हथौड़ा

Kanpur में ड्रग माफिया सुशील उर्फ बच्चा के मकान पर घन से प्रहार करता श्रमिक

Yogesh Tripathi

East (UP) में बाहुबली माफिया डॉन मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद और उनके गुर्गों के मकानों और बेनामी संपत्तियों को ध्वस्त करने के बाद अब Cenrtal (UP) में भी प्रशासन ने गुंडों और माफियाओं पर कार्रवाई शुरु कर दी है। Kanpur में ड्रग माफिया सुशील शर्मा उर्फ बच्चा की तरफ से कब्जा कर बनाए गए घर पर Monday को जिला प्रशासन ने आखिर अपना हथौड़ा चला दिया। गली संकरी होने की वजह से जब JCB माफिया के घर तक नहीं पहुंची तो दो दर्जन श्रमिकों ने हथौड़ा चलाकर मकान को ध्वस्त करने का काम Start किया। समाचार लिखे जाने तक ध्वस्तीकरण की कार्रवाई जारी है। किसी भी बवाल के मद्देनजर 10 थानों की पुलिस फोर्स को मौके पर तैनात किया गया है। 

सुशील उर्फ बच्चा और उसके भाई राजकुमार को पुलिस कुछ दिन पहले Arrest कर जेल भेज चुकी है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई भी की है। जिला प्रशासन ने जब उसकी संपत्ति को जब्त करने के लिए आंकलन करना शुरु किया तो पता चला कि ड्रग माफिया ने श्रम विभाग के सरकारी क्वार्टर पर ही कब्जा कर अपना आशियाना बना रखा है।

SSP/DIG डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने श्रम विभाग और अर्मापुर स्टेट को पत्र लिखकर सुशील उर्फ बच्चा और उसके भाई राजकुमार के खिलाफ FIR रजिस्टर्ड कर सरकारी संपत्ति से बेदखल करने की प्रक्रिया कुछ दिन पहले शुरु की। Monday को काकादेव थाना एरिया के अंबेडकर नगर स्थित अर्मापुर स्टेट की जमीन पर अनाधिकृत तरीके से बनाए गए सुशील बच्चा के मकान को ध्वस्त कराने की प्रक्रिया शुरू की गई।

प्रशासनिक अफसरों के साथ-साथ अर्मापुर स्टेट के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। गली संकरी होने की वजह से JCB मशीन अंदर नहीं जा सकी। इस पर अफसरों ने तुरंत हथौड़ों की व्यवस्था करवा करीब दो दर्जन श्रमिकों को घर गिराने के काम पर लगा दिया। मजदूरों ने माफिया के मकान पर हथौड़ा चलाया तो देखते ही देखते ड्रग माफिया का मकान मलबे में तब्दील हो गया।

Police का कहना है कि ड्रग माफिया के इस तीन मंजिला मकान से ड्रग की तस्करी होती थी। सुशील उर्फ बच्चा के गुर्गे इस घर में पनाह भी लेते थे। घर के ठीक सामने उसके भाई राजकुमार का भी अर्धनिर्मित घर है। पुलिस ने उसे भी ढहाने की तैयारी कर रखी है लेकिन अभी कुछ दिन का समय लग सकता है। 

फोटो : साभार गूगल

खास बात ये है कि ड्रग माफिया BJP के कुछ बड़े नेताओं का बेहद करीबी होने के साथ-साथ खास भी रहा है। यही वजह है कि गिरफ्तारी से कुछ महीना पहले तक वह शहर के तमाम कार्यक्रमों में देखा जाता था। तमाम नेताओं के साथ उसके होर्डिंग्स और बैनर शहर में चर्चा में रहे हैं।  

उल्लेखनीय है कि 2/3 जुलाई 2020 को चर्चित बिकरू कांड के ठीक 24 घंटे बाद भी पुलिस ने एनकाउंटर में मारे जा चुके गैंगस्टर विकास दुबे के घर को जेसीबी मशीन से ढहा दिया था। उसके बाद जिला प्रशासन की तरफ से Kanpur में किसी माफिया या गैंगस्टर के खिलाफ यह अब तक की बड़ी कार्रवाई है।